Shayari Meri Juban (ebook)

KPE63

हमारे जीवन में एक ऐसा समय आता है जब हम बिलकुल हताश और उदास हो जाते हैं। कभी-कभी यह मन एक बच्चे की...

More details

ebook

By buying this product you can collect up to 4 loyalty points. Your cart will total 4 loyalty points that can be converted into a voucher of Rs. 0.80.


Rs. 40.00

-Rs. 110.00

Rs. 150.00

Add to wishlist

Secure Payment
Secure Payment

Data sheet

ISBN978-93-82422-38-9
Page104
Year2015
LanguageHindi
Bindingit is digital book, e-book
AuthorMandakini Bansal

More info

हमारे जीवन में एक ऐसा समय आता है जब हम बिलकुल हताश और उदास हो जाते हैं। कभी-कभी यह मन एक बच्चे की तरह उछलने लगता है जीवन के अनेक रंगों को जैसे गम-खुशी, हार-जीत, सफलता-असफलता आदि को मैंने काव्य के माध्यम से दर्शाया हैं। कई बार बहुत मेहनत भी हमें निराशा दे जाती है। उन संवेदन शील भावनाओं को मैंने अपनी कविताओं में दर्शाया है। मैंने अपनी कविताओं में कई सामाजिक विषयों पर भी रोशनी डालने की चेष्टा की है मेरी कविताएं हर उम्र और हर वर्ग के लोगों के लिए है। मैंने बड़ी सरल और बोलचाल की भाषा में मन के भावों को छुआ है। मैंने दर्द को बड़े करीब से जाना है और इसलिए मेरी शायदी दर्द की खुली किताब है।

Reviews

Grade 
06/14/2016

shayari ka lavaz

bahut hi achi aur shaandar kitab ..

    Grade 
    06/14/2016

    hindi book

    a very heart touching and good work !!!
    keep it up.

      Grade 
      01/31/2016

      HINDI BOOK

      great great work

      • 0 out of 1 people found this review useful.

      Write your review!

      Write a review

      Shayari Meri Juban (ebook)

      Shayari Meri Juban (ebook)

      हमारे जीवन में एक ऐसा समय आता है जब हम बिलकुल हताश और उदास हो जाते हैं। कभी-कभी यह मन एक बच्चे की...

      2 other products in the same category: